ये थे आजादी के बाद पहली सर्जिकल स्ट्राइक के असली हीरो

पद्मश्री नारायणसिहं भाटी सिहङा

(देश के प्रथम पदम् श्री विजेता आईपीएस)
राजस्थान को वीरों का प्रदेश यूं ही नहीं कहा जाता है। देश का इतिहास लिखना हो तो प्रारंभ निश्चित रूप से राजस्थान से ही करना होगा। प्रसिद्ध इतिहासकार जेम्स टाॅड ने कहा था कि राजस्थान की भूमि में ऐसा कोई फूल नहीं उगा, जो राष्ट्रीय वीरता और त्याग की सुगंध से भरकर ना झूमा हो। वायु का एक भी झोंका ऐसा नहीं उठा, जिसकी झंझा के साथ युद्ध देवी के चरणों में साहसी युवकों का प्रथान न हुआ हो। ऐसे ही एक वीर और साहसी पुलिस अधिकारी हैं, जिन्हें राजस्थान की पुलिस के साथ-साथ सेना में दिये गये उनके योगदान के लिए पदमश्री से सम्मानित किया गया।

राजस्थान एक ऐसी धरती है, जिसका नाम लेते ही इतिहास आंखों पर चढ़ जाता है, भुजाएं फड़कने लग जाती है और खून उबाले मारने लगता है। यहां का जर्रा-जर्रा देशप्रेम, वीरता और बलिदान की अखूट गाथा से ओतप्रोत अपने अतीत की गौरव घटनाओं का जीता जागता इतिहास है। इसकी माटी की यह विशेषता है कि यहां जो भी माई का लाल जन्म लेता है, प्राणों को हथेली पर लिये मस्तक की होड़ लगा देता है। यहां का प्रत्येक पूत अपनी आन पर अडिग रहता है। ऐसे ही वीर सपूत रहे हैं नारायण सिंह भाटी, जिन्होने आजादी से पहले तत्कालीन जैसलमेर में हाकम के रूप में अपनी सेवाएं दी। वहीं आजादी के बाद एक ऐसे पुलिस अधिकारी के रूप में सामने आये, जिन्होने राजस्थान में शांति स्थापित करने के लिए सैकड़ों डकैतों का सफाया कर दिया।

देश की आजादी के बाद यूं तो सेना ने पाकिस्तान में कई सर्जिकल स्ट्राईक किये हैं, लेकिन कभी भी इसे न तो पाकिस्तान ने स्वीकार किया और न ही कभी भारत सरकार ने। हाल में भारत ने पाक में किये सर्जिकल स्ट्राईक से कई आतंकियों के कैंप नष्ट किये थे, लेकिन देश की पहली सर्जिकल स्ट्राईट आजादी के मात्र 2 माह बाद ही कि गई थी और ये स्टाईक जैसलमेर के आधा दर्जन हाकमों ने मिलकर की थी। इसमें उनका साथ दिया था उस समय 60 के करीब जवानों और जोधपुर से आए 200 से ज्यादा राजपूतों ने।

देश की इस पहली सर्जिकल स्ट्राईक का कारण था काबुल के 500 पठान, जिन्होंने जैसलमेर के दर्जनों गांवों पर लूट के इरादे से हमला किया। पठानों ने इस हमले के दौरान सैकड़ों लोगों को मार दिया। यही नहीं, उन्होंने न तो बच्चों को छोड़ा और न ही महिलाओं को। हमले के बाद लूट में मिले लाखों रुपये तो साथ ही ले गये, कई हिंदूस्तानी युवतियों को भी अपने साथ ले गये। इस हमले में पठानों को पाक सेना ने भरपूर साथ दिया था। हमले की इस खबर के बाद तनोट के हाकम नारायण सिंह भाटी दूसरे हाकम कर्नल मोहनसिंह, गुमानसिंह और जोधपुर से आए राजपूतों के साथ मिलकर पठानों का पीछा करते हुए पाकिस्तान के भावलपुर तक घुस गये।

हाकमों ने पठानों पर हमला कर उनसे दर्जनों महिलाओं को छुड़ा लाए। लौटते समय सदकाबाद चौकी पर जो कि नहर पर स्थित थी, पाक सैनिकों ने जमकर गोलियां बरसाई, लेकिन एक लंबे संघर्ष के बाद वे तनौट चौकी पर पहुंचने में कामयाब हो गये। बाद में पाकिस्तान सरकार ने हिंदुस्तान से इस मामले में शिकायत की, जिस पर जैसलमेर के राजा ने हाकम नारायणसिंह भाटी को जैसलमेर बुला लिया।

देश की आजादी के बाद कई रियासतों के विलय से राजस्थान बना तो कुछ राजा और बड़े जागीरदारों ने राजस्थान में आतंक का माहौल बना दिया। रियासतों से जुड़े कई लोग या तो खुद बागी बन गये या कई बागियों को सरकार के खिलाफ कर दिया। इन बागियों ने डकैत बनकर प्रदेश के हर हिस्से में लूटपाट और कत्ल शुरू कर दिये। नतीजा ये रहा कि संपूर्ण राजस्थान में ही डकैतों से लड़ते हुए पुलिस के आईपीएस ताराचंद से लेकर कई बड़े अधिकारी शहीद हो गये। ऐसे में कभी जैसलमेर के हाकम रहे नारायण सिंह भाटी को डकैतों का खात्मा करने का जिम्मा सौपा गया।

डकैतों के खिलाफ चलाये जाने वाले अभियानों के मुखिया होने के कारण धीरे-धीरे नारायण सिंह भाटी को डकैतों का यमदूत कहा जाने लगा। जैसलमेर में हाकम के रूप में भाटी ने पहली बार हुर डकैतों का सफाया किया था। बाद में बाड़मेर में डयूटी के दौरान तत्कालीन एसपी ने उन्हें डकैत उन्मूलन का काम सौपा, जो बाद में पाली, माउण्ट आबू, जालौर से होता हुआ सवाईमाधोपुर और भरतपुर में अपने चरम पर पहुंच गया था।

बाड़मेर, जैसलमेर, पाली और जोधपुर में डकैतो के खात्मे के बाद नारायण सिंह भाटी थानेदार से डीवाईएसपी बन गये, तो वहीं उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देते हुए धौलपुर में डकैतों को समाप्त करने का काम सौंपा गया। अलख नंदा से लेकर चंबल के बीच की भूमि डाकूओं के लिए सबसे बड़ा बसेरा थी। केवल भरतपुर में ही उन्होंने 55 डकैतों को मार गिराया और 400 से ज्यादा को गिरफ्तार करने में कामयाब रहे। चंबल में एक समय ऐसा भी आया, जब भाटी के नाम से ही कई डकैतों ने सरेण्डर कर दिया।

डकैतो के खिलाफ चलाये जाने वाले अभियानों के मुखिया होने के कारण धीरे-धीरे नारायण सिंह भाटी को डकैतों का यमदूत कहा जाने लगा। डकेतों के खिलाफ चलाये गये अभियानों की सफलता के बीच 1965 में पाकिस्तान ने देश पर युद्ध थोप दिया। तत्कालीन मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया के आहवान पर नारायण सिंह भाटी को सेना का कमांडेंट नियुक्त कर बाॅर्डर पर भेजा गया। भाटी ने अपने साहस और वीरता के दम पर साथियों के साथ मिलकर राबलाउ, मुरार, शाहगढ़, सादेवाला और तनोट की चौकी को न केवल दुश्मनों से मुक्त कराया, बल्कि युद्ध में भारत के लिए जीत का आगाज भी कर दिया।

भाटी की इस कुशल क्षमता पर सेना के साथ राजस्थान सरकार ने केन्द्र को विशेष सम्मान के लिए आग्रह किया, जिसके बाद भाटी को 1970 में डकैत उन्मूलन के लिए पदमश्री से सम्मानित किया गया। नारायण सिंह भाटी देश के ऐसे पहले पुलिस अधिकारी थे, जो पुलिस के साथ सेना की कमान संभाल रहे थे और जिन्हें पदमश्री से सम्मानित किया गया। पदमश्री नारायण सिंह भाटी का जीवन जहां एक ओर विशुद्ध देशभक्ति, साहस और वीरता से भरा रहा, वही उनकी प्रसिद्धी से ईर्ष्या रखने वालो की भी कमी नहीं रही। यही कारण रहा कि कई बार उनके विरोधियों ने उन्हे नीचा दिखाने की कोशिश की।
1971 के भारत-पाक युद्ध में भी आप ने भाग लिया|

यहां तक उनके खिलाफ सीबीआई जांच भी हुई तो उनकी पदोन्नति को सुप्रीम कोर्ट तक चुनौती दी गई। लेकिन देश के इस वीर जांबाज अधिकारी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश सीए वैद्यलिंगम ने यह तक कहा कि देश में क्या कोई दूसरा ऐसा अधिकारी है, जिसने भारत-पाक युद्ध में इतनी कार्यकुशलता ओर वीरता दिखाई हो। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भाटी के आईपीएस में पदोन्नति को न केवल राजस्थान सरकार के निर्णय को सही बताया, बल्कि इसके लिए सरकार का आभार भी जताया।

पद्मश्री नारायण सिंह भाटी राज्य के अब तक के एकमात्र पुलिस अधिकारी हैं, जिन्हें 4 राष्ट्रपति पुलिस पदक, 6 गैलेंट्री अवार्ड, 6 सीएम, 5 राज्यपाल द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। उनके साहस और शौर्य के लिये तत्कालीन राष्टपति वीवी गिरी ने पदमश्री से सम्मानित किया। ऐसे देशभक्त पुलिस अधिकारी से आने वाली पीढ़ी प्रेरणा ले सके, इसके लिए पश्चिमी राजस्थान के दर्जनों गांवों के ग्रामीणों ने मिलकर उनके पैतृक गांव सिहड़ा में प्रतिमा तक स्थापित की है। स्थानीय लोगों की मांग है कि सरकार पद्मश्री नारायण सिंह भाटी की शौर्यगाथा स्कूली पाठ्यक्रम में भी शामिल करें, ताकि बच्चे देश की सेवा के लिए प्रेरित हो सके।

डाकू उन्मूलन व भारत-पाक युद्ध में उनके अद्भुत पराक्रम के कारण भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति महामहिम वीवी गिरी द्वारा वीरता के क्षेत्र में “पद्मश्री” पुरस्कार व राष्ट्रपति पुलिस पदक अलंकृत ओजस्वी के धनी,मरुधरा की माटी के रियल नायक, समाजहित सर्वोपरि मानकर अपनो के सुख-दुख में सदैव उपस्थित रहने वाली महान् शख्शियत स्वःनारायणसिहं भाटी सिहड़ा मारवाड़ के लोगो के ह्रदय में सदैव विराजमान रहेंगें। सदी के महानायक को नमन् #पद्मश्री स्‍व.नारायण सिंह भाटी सिहडा़|
जयपुर में एक मार्ग का नाम आपके नाम पर रखा गया है|
आपका पूरा जीवन संघर्ष व पराक्रम की एक मिसाल बन गया|
नारायण सिंह जी श्री करणी माता के अनन्य भक्त थे | माताजी में आपकी बड़ी श्रद्धा थी |आपका स्वर्गवास 2013 ईस्वी में हुआ | आपके दोनों पुत्र आईएएस है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *